शनिवार, अक्तूबर 16

कविता : वो हामिद कहाँ है

वो हामिद कहाँ है

मेला वही है ,
ईद वही है ....
चूल्हा वही है ,
दादी वही है ....
आज भी अगुंलियाँ ,
जलती दादी की हैं ....
आखों में उसके ,
समंदर भरा है ....
मगर आज अपना ,
वो हामिद कहाँ है ....
इस भीड़ में ,
वो खोया कहाँ है ....

लेख़क : महेश

2 टिप्‍पणियां:

  1. डरता है हामिद आज की समाज के सामने आने पर कहीं कोई ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. True! but this is the outcome of our educational and social system, which is no where teaching students love and morals.

    उत्तर देंहटाएं